टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते द.अफ्रीका को 304 रनों का विशाल लक्ष्य दिया, जिसके जवाब में मेजबान टीम महज 179 रनों पर ऑल आउट हो गई.

केपटाउन में भी भारत के खिलाफ तीसरे दिन -नाइट मुकाबले में मेहमान टीम इंडिया से जीत के लिए मिले 304 के लक्ष्य के जवाब में दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजो  की एक बार फिर से हवा निकल गई. मेजबानी बल्लेबाजों के लिए तीसरे वनडे में भी भारतीय स्पिनर युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की जोड़ी फिर से भयावह सपना साबित हुई.

 टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते द.अफ्रीका को 304 रनों का विशाल लक्ष्य दिया, जिसके जवाब में मेजबान टीम महज 179 रनों पर ऑल आउट हो गई. इस जीत के साथ ही टीम इंडिया 6 मैचों की वनडे सीरीज में 3-0 से आगे हो गई और अब वो इस सीरीज को हारेगी नहीं. 

टीम इंडिया की जीत में अहम योगदान कप्तान विराट कोहली ने दिया, जिन्होंने नाबाद 160 रन बनाए. गेंदबाजी की बात करें तो युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव ने 4-4 विकेट अपने नाम किए. केपटाउन में जीत दर्ज करते ही टीम इंडिया ने 4 रिकॉर्ड बना डाले.

इन दोनों ने चार-चार विकेट लेते हुए मेजबान बल्लेबाजी को मानो क्लब स्तरीय सरीखा बना दिया. यह इन दोनों का ही असर था कि दक्षिण अफ्रीका टीम 40 ओवरों में महज 179 रनों पर ही ढेर हो गई. 

जसप्रीत बुमराह ने भी दो विकेट लिए. इस जीत के साथ ही भारत ने यह सुनिश्चित कर दिया कि अब यहां से सीरीज सिर्फ दक्षिण अफ्रीका ही हारेगा. विराट कोहली को उनके करियर की सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया. 

दक्षिण अफ्रीका की तरफ से सबसे ज्यादा 51 रन अनुभवी बल्लेबाज जेपी डुमिनी ने बनाए, तो कप्तान एडेन मार्करैम ने 32 रन का योगदान दिया.

इसके अलावा डेविड मिलर ने भी 25 रन बनाए. युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव आक्रमण पर आए, तो पिछले दो वनडे मैचों की तरह साफ दिखाई पड़ा कि मेजबान बल्लेबाजों को कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है.

गेंदों को समझने का धैर्य दिखाने और साझेदारी विकसित करने के बजाय निचले क्रम के बल्लेबाजों में मानों यह होड़ लगी थी कि कौन पहले आउट होता है.  

इससे पहले कप्तान विराट कोहली के नाबाद 160 रन की पारी की बदौलत भारत ने मेजबान दक्षिण अफ्रीका के सामने 304 रन का टारेगट रखा. विराट कोहली का यह करियर का 34वां शतक रहा. जिसके साथ उन्होंने कई रिकॉर्डों को अंजाम दिया. उनके अलावा शिखर धवन ने 76 रन की पारी खेली.

 एक समय खराब शुरुआत से उबरने के बाद टीम इंडिया बड़े स्कोर की ओर जाती दिख रही थी, लेकिन दूसरे छोर पर मध्यक्रम के चरमरा जाने से क्रिकेटप्रेमियों को यह चिंता होने लगी थी कि भारत केपटाउन में तीन सा का आंकड़ा छू भी पाएगा, या नहीं. 

लेकिन कोहली ने आखिरी दो ओवर में कुछ बेहतरीन शॉट लगाते हुए भारत को तीन सौ के पार पहुंचा दिया. मेजबान टीम के लिए सबसे ज्यादा दो विकेट पार्ट टाइम गेंदबाज जेपी जुमिनी ने लिए.

भारत की शुरुआत खराब रही, जब रोहित शर्मा बिना खाता खोले ही आउट हो गए, लेकिन इसके बाद शिखर धवन और विराट कोहली ने दूसरे विकेट के लिए 140 रन जोड़कर टीम को एक मजबूत स्कोर की तरफ धकेल दिया,

 लेकिन मध्यक्रम में लगातार विकेट गिरते रहने से बड़े स्कोर की उम्मीदें धूमिल होती दिखाई पड़ीं. मिड्ल ऑर्डर में अजिंक्य रहाणे ने 11, हार्दिक पंड्या ने 14  तो धोनी ने 10  ही रन बनाए.

उम्मीद थी कि सीरीज पहली बार बल्लेबाजी का अच्छी तरह मौका पाए इन बल्लेबाजों में कोेई न कोई जरूर धमाल मचाएगा, लेकिन मिड्ल ऑर्डर के ये बल्लेबाज इस मौके का फायदा उठाने में नाकाम साबित हुए.  

 दक्षिण अफ्रीका के लिए दो खिलाड़ी विकेटकीपर क्लासेन और लुंगि एंगिनी अपने वनडे करियर का आगाज किया, जबकि शमसी की जगह एंडिले को टीम में शामिल किया गया, वहीं मोर्ने मॉर्कल को तीसरे वनडे से बाहर रखा गया. 

वैसे चंद दिन के भीतर ही अपने चार चोटिल खिलाड़ियों के सदमे से मारी मेजबान दक्षिण अफ्रीका के लिए केप टाउन में भारत के खिलाफ आज तीसरे दिन -नाइट वनडे इस सदमे से उबरना सबसे बड़ा चैलेंज बन गया था. और यह चैलेंज तीसरे वनडे में भी बरकार रहा. कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल के सामने दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों ने पूरी तरह से हथियार डाल दिए. 

YOUR REACTION?


You may also like